साप्ताहिक राशिफल ( 23 से 29 अप्रैल 2018)

इन 5 राशि वालों को मिलेंगी खुशियाँ अपार! पढ़ें साप्ताहिक राशिफल और जानें नौकरी, व्यवसाय, शिक्षा, प्रेम व पारिवारिक जीवन से जुड़ी भविष्यवाणियाँ।


अप्रैल माह के आखिरी सप्ताह की शुरुआत आज से हो चुकी है। यह सप्ताह 5 राशि के लोगों के लिए सुखद पल लेकर आने वाला है। इस दौरान इन राशि के जातकों को विदेश यात्रा, धन लाभ, नौकरी और व्यवसाय में तरक्की के अवसर मिलेंगे। हालांकि अन्य 7 राशि के लोगों को भी अच्छे अवसरों की प्राप्ति होगी लेकिन इसके लिए उन्हें संघर्ष करना पड़ सकता है। इस हफ्ते क्रिकेट, फिल्म और लेखन जगत की दो दिग्गज हस्तियों के जन्मदिन हैं। इनमें पहले हैं मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर और दूसरे हैं प्रसिद्ध उपन्यास और कहानीकार चेतन भगत। इन दोनों शख्सियतों ने क्रिकेट और लेखन की दुनिया में नाम कमाया है। एस्ट्रोसेज की ओर से इन दोनों शख्सियतों को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएँ।

आईये अब जानते हैं इस सप्ताह का राशिफल:-


यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। चंद्र राशि कैल्कुलेटर से जानें अपनी चंद्र राशि

मेष


इस सप्ताह मन कुछ अप्रसन्न रह सकता है। व्यावसायिक साझेदारी से लाभ होने की संभावना है...आगे पढ़ें

वृषभ


इस सप्ताह छोटी दूरी की यात्राओं की संभावना बनेगी। आप प्रत्येक कार्य को मेहनत से करना चाहेंगे...आगे पढ़ें

मिथुन 


इस सप्ताह कार्यक्षेत्र अथवा कुटुंब परिवार में किसी तरह की बहस बाजी से बचें अन्यथा आप परेशानी में फंस सकते हैं...आगे पढ़ें

पढ़ें: 26 अप्रैल 2018 को आने वाली मोहिनी एकादशी के व्रत का धार्मिक महत्व

कर्क


इस सप्ताह मानसिक तनाव बढ़ने से परेशानी हो सकती है इसलिए धैर्य से काम लें। आप विरोधियों पर हावी रहेंगे...आगे पढ़ें

सिंह


यह सप्ताह सिंह राशि के जातकों के लिए अच्छा रहने वाला है। मान-सम्मान में वृद्धि होगी...आगे पढ़ें

कन्या 


पारिवारिक जीवन में अशांति रह सकती है। माता के स्वास्थ्य को लेकर भी चिंतित रहेंगे। वाणी में प्रभाव बढ़ेगा...आगे पढ़ें


पढ़ें: 2 मई 2018 को शनि की राशि में मंगल का गोचर! आप पर क्या होगा असर

तुला 


इस सप्ताह कार्यक्षेत्र पर कुछ विरोधाभास का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए थोड़ा संभल कर चलें...आगे पढ़ें

वृश्चिक 


इस सप्ताह वृश्चिक राशि के जातक तंदुरुस्ती पर ध्यान दें और नियमित रूप से योगाभ्यास करें...आगे पढ़ें

धनु 


इस सप्ताह आपको किसी पुरानी बीमारी से छुटकारा मिल सकता है। वहीं दूसरी ओर जरुरत से ज्यादा परेशान होने से आपके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है...आगे पढ़ें

मन में है कोई सवाल, जो कर रहा है परेशान तो तुरंत पाएँ समाधान: प्रश्न पूछें

मकर 


इस सप्ताह विदेश जाने के इच्छुक लोगों की मनोकामना पूर्ण हो सकती है। वहीं जो लोग पहले से विदेश में बसे हैं...आगे पढ़ें

कुम्भ


इस सप्ताह बाहरी स्त्रोतों से धन लाभ के मार्ग खुलेंगे और कार्यक्षेत्र में तरक्की मिलेगी...आगे पढ़ें

मीन 


इस सप्ताह मानसिक क्षमता व योग्यता में वृद्धि होगी। कार्यस्थल पर कॉन्ट्रोवर्सी से बचने का प्रयास करें...आगे पढ़ें

डाउनलोड करें अपनी नि:शुल्क जन्म कुंडली
Read More »

शुक्र का वृषभ राशि में गोचर आज! जानें प्रभाव

इन 10 राशि वालों पर होगी विशेष कृपा! आज यानि 20 अप्रैल, शुक्रवार को शुक्र ग्रह वृषभ राशि में गोचर कर रहा है। इस लेख में पढ़ें शुक्र के इस गोचर का ज्योतिषीय प्रभाव।


कला, सौंदर्य, विवाह और सांसारिक सुखों का कारक कहा जाने वाला शुक्र ग्रह आज यानि 20 अप्रैल 2018, शुक्रवार को वृषभ राशि में गोचर कर रहा है। रात्रि 02:21 बजे शुक्र मेष राशि से निकलकर वृषभ में प्रवेश कर चुका है और 14 मई 2018 तक इसी राशि में संचरण करेगा। शुक्र के इस गोचर का प्रभाव सभी राशियों पर देखने को मिलेगा। इस दौरान आपके वैवाहिक और सांसारिक जीवन पर भी इसके सुखद और दुखद दोनों प्रभाव देखने को मिल सकते हैं।

आईये जानते हैं सभी राशियों पर शुक्र के इस गोचर का क्या प्रभाव होगा-

Click here to read in English

यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। चंद्र राशि कैल्कुलेटर से जानें अपनी चंद्र राशि

मेष


शुक्र आपकी राशि से दूसरे भाव में गोचर करेगा। इस स्थिति में आप एक प्रभावी वक्ता के रूप में उभर सकते हैं...आगे पढ़ें

वृषभ


शुक्र ग्रह आपकी ही राशि में गोचर करेगा जो प्रथम भाव में स्थित होगा। इसके प्रभाव से आपको निजी जीवन में सुधार देखने को मिल सकता है...आगे पढ़ें

मिथुन


इस दौरान आपके खर्चों में वृद्धि देखने को मिल सकती है। क़ीमती वस्तु एवं सुविधाओं पर आपका धन अधिक ख़र्च होने की संभावना है...आगे पढ़ें

जानें अपनी राशि की विशेषता, स्वभाव और स्वास्थ्य: आपकी राशि

कर्क


इस परिस्थिति में आपकी आय में वृद्धि देखने को मिल सकती है। किसी महिला के द्वारा आपको मदद मिलेगी। प्रेम संबंध भी मधुर रहेंगे...आगे पढ़ें

सिंह


इस अवधि में कार्य क्षेत्र से आपको शुभ समाचार मिलने के संकेत हैं। आप अपना कार्य पूरी ईमानदारी के साथ करेंगे...आगे पढ़ें

कन्या


आप किसी लंबी दूरी की यात्रा पर जा सकते हैं और यह यात्रा आपके लिए लाभकारी सिद्ध होगी...आगे पढ़ें

संतान जन्म में आ रही परेशानियों को दूर करने के लिए पढ़ें: संतान प्राप्ति के उपाय



तुला


आपको अप्रत्याशित लाभ मिलने की संभावना है। हालांकि छोटी-मोटी स्वास्थ्य संबंधी परेशानी आपको हो सकती है...आगे पढ़ें

वृश्चिक


यह गोचर आपके लिए उत्तम होने के संकेत दे रहा है। ज्योतिषफल के अनुसार, गोचर के दौरान आपका वैवाहिक जीवन सुखद रह सकता है...आगे पढ़ें

धनु


इस दौरान आपको प्रेम जीवन में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। आप विरोधियों पर हावी रहेंगे...आगे पढ़ें

शादीशुदा जीवन में आ रही परेशानियों को दूर करने के लिए पाएँ: विवाह परामर्श

मकर


शुक्र आपकी आपकी राशि से चौथे भाव में गोचर करेगा। ऐसे में प्रेम जीवन में आपको आनंद आएगा...आगे पढ़ें

कुंभ


इस अवधि में आपके घर का वातावरण सामान्य रह सकता है। गोचर के दौरान आप नया घर अथवा नई कार ख़रीद सकते हैं...आगे पढ़ें

मीन


इस अवधि में आप अपनी संवाद शैली से लोगों को प्रभावित करेंगे। मीडिया, कला, ग्लैमर, अभिनय से जुड़े लोगों को गोचर का अधिक लाभ मिल सकता है...आगे पढ़ें

पढ़ें हर ग्रह की शांति के लिए विशेष ज्योतिषीय उपाय
Read More »

अक्षय तृतीया कल, जानें शुभ मुहूर्त

धन-समृद्धि के लिए करें ये 5 धार्मिक कर्म! कल यानि 18 अप्रैल 2018 को अक्षय तृतीया मनाई जाएगी। पढ़ें इस पावन तिथि का पौराणिक व ज्योतिषीय महत्व और इस दिन किये जाने वाले धार्मिक कर्म।


वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की तृतीया को अक्षय तृतीया कहा जाता है। इसे आखातीज और वैशाख शुक्ल तृतीया के नाम से भी जाना जाता है। अक्षय तृतीया का हिन्दू धर्म में बड़ा महत्व है। मान्यता है कि सतयुग और त्रेता युग का प्रारंभ इसी तिथि से हुआ था। इसके अलावा इस दिन को भगवान परशुराम के जन्मोत्सव के रूप में भी मनाया जाता है। अक्षय तृतीया के अवसर पर जो भी कार्य किया जाता है उसका पुण्य फल कभी नष्ट नहीं होता है।

Click here to read in English


अक्षय तृतीया का पूजा मुहूर्त
प्रारंभसमापनअवधि
05:53:17 बजे12:20:51 बजे6 घंटे 27 मिनट


नोटः उपरोक्त समय नई दिल्ली के लिए है। जानें अपने शहर में अक्षय तृतीया का मुहूर्त एवं पूजा विधि


अक्षय तृतीया का महत्व


अक्षय तृतीया का दिन बहुत पवित्र माना गया है। इस दिन किया हुआ दान, स्नान, जप-तप और होम आदि का अक्षय फल मिलता है। यदि यह व्रत सोमवार और रोहिणी नक्षत्र में आए तो महाफलदायक माना जाता है। अक्षय तृतीया को सर्वसिद्ध मुहूर्त कहते हैं। अतः इस दिन बिना पंचांग देखे कोई भी शुभ कार्य जैसे- विवाह, गृह प्रवेश आदि किए जा सकते हैं। पुराणों में ऐसा वर्णन है कि अक्षय तृतीया के दिन पितरों को किया गया पिण्डदान अक्षय फल प्रदान करता है। स्वर्ण की ख़रीदारी के लिए भी इस दिन को अति शुभ माना जाता है।



अक्षय तृतीया पर किये जाने वाले पुण्य कर्म


  • इस दिन पितरों की आत्मा की शांति के लिए घड़ी, कलश, पंखा, छाता, चावल, दाल, नमक, घी, चीनी, साग, इमली, फल, वस्त्र, खड़ाऊ, सत्तू, ककड़ी, खरबूजा और दक्षिणा का किसी जरुतमंद या ब्राह्मण को दान करना चाहिए। 
  • भाग्योदय के लिए अक्षय तृतीया के दिन सोना, चांदी, मिट्टी के बरतन, वस्त्र, शंख, शक्कर, हल्दी, मोरपंख आदि खरीदना चाहिये।
  • गाय को अच्छे स्वास्थ्य एवं धन-संपदा का प्रतीक माना जाता है, इसलिए अक्षय तृतीया के दिन गाय की पूजा करनी चाहिए।
  • जीवन में धन, वैभव, सुख-संपदा को पाने के लिए इस दिन माँ लक्ष्मी जी की आराधना की जाती है।
  • अक्षय तृतीया पर भगवान बद्रीनारायण के कपाट खुलते हैं, इसलिए इस दिन भगवान को तुलसीदल चढ़ाकर, श्रद्धा व भक्तिपूर्वक पूजन करना चाहिए।
                        अक्षय तृतीया पर धन लाभ के लिए करें महालक्ष्मी यंत्र की स्थापना


पौराणिक कथाएँ


परशुराम जयंती

भगवान परशुराम जी का जन्म अक्षय तृतीया पर हुआ था। इसलिए अक्षय तृतीया के दिन परशुराम जयंती मनाई जाती है। परशुराम जी भगवान विष्णु के छठे अवतार के रूप में जाने जाते हैं। कहा जाता है कि प्रारंभ में परशुराम जी का नाम रामभद्र था परंतु असुरों के चंगुल से माताओं व देवियों को छुड़ाने एवं दुष्टों का संहार करने के लिए भगवान शिव ने उन्हें परशु नामक शस्त्र दिया था, जिसके कारण उनका नाम परशुराम पड़ा।

महाभारत काल

अक्षय तृतीया के पावन पर्व का वर्णन महाभारत में भी मिलता है। ऐसा कहा जाता है कि महाभारत जैसे विशाल पौराणिक ग्रंथ के लेखन की शुरुआत इसी पवित्र दिन से हुई थी। भगवान सूर्य ने अक्षय तृतीया के दिन ही पाण्डवों को अक्षय पात्र भेंट किया था।

ज्योतिषीय महत्व


वैदिक ज्योतिष के अनुसार एक वर्ष में साढ़े तीन अक्षय मुहूर्त आते हैं, उनमें से अक्षय तृतीया को सबसे उत्तम और शुभ माना गया है। यह तिथि वैसाख माह में पड़ती है। कहा जाता है कि इस दिन सूर्य एवं चंद्रमा का प्रकाश अपने चरम पर होता है, जो समस्त मंगल कार्यों के लिए बहुत शुभ समय होता है।

एस्ट्रोसेज की ओर से सभी पाठकों को अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएँ!
Read More »

शनि देव धनु राशि में कल होंगे वक्री, पढ़ें भविष्यफल

जानें हर राशि पर होने वाले प्रभाव और उपाय! शनि देव कल यानि 18 अप्रैल 2018 को धनु राशि में वक्री होंगे। इसका असर सभी राशियों पर देखने को मिलेगा।


कर्म और सेवा के कारक शनि देव 18 अप्रैल 2018, बुधवार सुबह 7:10 बजे धनु राशि में वक्री हो जाएंगे और 06 सितंबर 2018 गुरुवार शाम 05:02 बजे पुनः मार्गी होंगे। सामान्यतः शनि का वक्री होना शुभ नहीं माना जाता है लेकिन जरूरी नहीं है कि हर राशि पर इसका अशुभ प्रभाव देखने को मिले। क्योंकि वक्री शनि शुभ फल भी प्रदान करता है। आईये जानते हैं विभिन्न राशियों पर होने वाला इसका प्रभाव।


यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। चंद्र राशि कैल्कुलेटर से जानें अपनी चंद्र राशि

मेष


शनि के वक्री होने से मेष राशि के लोगों को नौकरी और व्यवसाय में सफलता अर्जित करने के लिए अधिक प्रयास करने होंगे...आगे पढ़ें

वृषभ


शनि के व्रकी होने से पिता और शिक्षा से संबंधित मामलों में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है...आगे पढ़ें

मिथुन


शनि के वक्री होने से कुछ परेशानियां उत्पन्न होंगी। इस दौरान भाग्य आपका साथ नहीं देगा...आगे पढ़ें

शनि की साढ़े साती से हैं परेशान तुरंत पाएँ समाधान: शनि साढ़ें साती ज्योतिषीय परामर्श

कर्क


शनि के वक्री होने से आपके वैवाहिक जीवन में कुछ समस्याएं उत्पन्न होने की संभावना है...आगे पढ़ें

सिंह


शनि के वक्री होने से इस अवधि में स्थान परविर्तन के योग बनने की संभावना है...आगे पढ़ें

कन्या


शनि के वक्री होने के दौरान सफलता प्राप्ति में बाधा आ सकती है। बनते-बनते आपके काम बिगड़ सकते हैं...आगे पढ़ें


पढ़ें अपनी राशि की विशेषता, स्वभाव और स्वास्थ्य: आपकी राशि

तुला


इस दौरान पारिवारिक सुख को बनाये रखने के लिए आपको कामकाज और गृहस्थ जीवन के बीच संतुलन बनाकर चलना होगा...आगे पढ़ें

वृश्चिक


शनि के वक्री होने की स्थिति में इस दौरान दोस्तों और सहयोगियों से मिलने वाली मदद में कमी आ सकती है...आगे पढ़ें

धनु


शनि के आपकी ही राशि में वक्री होने से आपको बेवजह की यात्राएं करनी पड़ सकती है...आगे पढ़ें

शनि ग्रह की शांति के लिए पढ़ें: विशेष ज्योतिषीय उपाय

मकर


शनि के वक्री होने पर मकर राशि के जातकों को अपनी वाणी पर नियंत्रण रखना होगा...आगे पढ़ें

कुंभ


शनि के वक्री होने की स्थिति में आपको पारिवारिक और आर्थिक मोर्चे पर परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है...आगे पढ़ें

मीन


शनि के वक्री होने की स्थिति में आपके खर्चों में बढ़ोत्तरी देखने को मिल सकती है, इसलिए इस दौरान फिजूलखर्ची पर नियंत्रण रखने की कोशिश करें...आगे पढ़ें

पढ़ें 20 अप्रैल 2018 को शुक्र के वृषभ राशि में होने वाले गोचर का ज्योतिषीय प्रभाव
Read More »

साप्ताहिक राशिफल ( 16 से 22 अप्रैल 2018)

इन 6 राशि वालों के लिए ‘सौगातों का सप्ताह’! पढ़ें साप्ताहिक राशिफल और जानें क्या कहते हैं आपके सितारे? नौकरी, व्यवसाय, शिक्षा और विवाह आदि के लिए कैसा रहेगा यह सप्ताह!


अप्रैल के तीसरे हफ्ते की शुरुआत हो चुकी है। ग्रह और नक्षत्रों की चाल के अनुसार 16 से 22 अप्रैल की यह अवधि में 6 राशि वालों के लिए कई सौगातें लेकर आ सकती है। क्योंकि इस दौरान ग्रहों के प्रभाव से इन 6 राशि वालों को घर, गाड़ी, विदेश यात्रा और धन लाभ अर्जित करने का मौका मिलेगा। इस सप्ताह दो नामी शख्सियत के जन्मदिन भी हैं। इनमें पहले हैं रिलायंस इंडस्ट्री के मालिक मुकेश अंबानी जिनके नेतृत्व में रिलायंस ग्रुप लगातार तरक्की कर रहा है। वहीं दूसरी शख्सियत हैं बॉलीवुड एक्टर मनोज वाजपेयी जो कि अपने संजीदा अभिनय के लिए मशहूर हैं। देश की इन दोनों शख्सियत को जन्मदिन की शुभकामनाएँ!

आईये अब जानते हैं इस सप्ताह का राशिफल:-


यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। चंद्र राशि कैल्कुलेटर से जानें अपनी चंद्र राशि

मेष


इस सप्ताह आप मानसिक रूप से दृढ़ रहेंगे। अहंकार का त्याग करें, पिता को स्वास्थ्य संबंधी कष्ट हो सकता है...आगे पढ़ें

वृषभ


इस सप्ताह विदेश यात्रा की संभावना बन रही है। स्वास्थ्य संबंधित कुछ परेशानियां हो सकती हैं...आगे पढ़ें

मिथुन


इस सप्ताह मिथुन राशि वाले जातकों की आमदनी में वृद्धि और धन लाभ के योग बन रहे हैं...आगे पढ़ें


जानें वर्ष 2018 में किन राशियों पर होगी गुरु की कृपा, पढ़ें: गुरु गोचर

कर्क


कार्य क्षेत्र में अधिकारों में वृद्धि होगी महिलाओं के प्रति सम्मानजनक व्यवहार करना आपके लिए अच्छा रहेगा...आगे पढ़ें

सिंह


लंबी दूरी की यात्रा के योग बनेंगे। आप धार्मिक कार्यों में सम्मिलित होंगे। कार्यक्षेत्र में ट्रांसफर के साथ पदोन्नति की संभावना है...आगे पढ़ें

कन्या


इस सप्ताह कन्या राशि के जातकों को शारीरिक समस्या का सामना करना पड़ सकता है...आगे पढ़ें


जानें: 20 अप्रैल को शुक्र के वृषभ राशि में होने वाले गोचर का सभी राशियों पर प्रभाव

तुला


इस सप्ताह तुला राशि के जातकों की निर्णय लेने की क्षमता में वृद्धि होगी। कार्य क्षेत्र में व्यस्तता के कारण आप पारिवारिक सुख से वंचित रह सकते हैं...आगे पढ़ें

वृश्चिक


इस सप्ताह खर्चों में वृद्धि होने की संभावना है। हालांकि कोर्ट-कचहरी के कार्यों में आपको जीत मिलेगी...आगे पढ़ें

धनु


इस सप्ताह विचारों को लेकर दूसरों के साथ विरोधाभास बना रहेगा। मन में व्याकुलता बढ़ेगी...आगे पढ़ें

मकर


इस सप्ताह सुदूर यात्रा पर जाने के योग बन रहे हैं। सामान्य रूप से स्वास्थ्य थोड़ा कमजोर रह सकता है...आगे पढ़ें

ऑनलाइन सॉफ्टवेयर से मुफ्त जन्म कुंडली प्राप्त करें

कुंभ


इस सप्ताह आपकी आमदनी बढ़ेगी और आपके साहस व पराक्रम में भी वृद्धि होगी...आगे पढ़ें

मीन


इस अवधि में धन संचय के योग बनेंगे। वहीं कार्य क्षेत्र में विवाद की स्थिति बन सकती है...आगे पढ़ें


Read More »

सूर्य का मेष में गोचर आज, आप पर क्या होगा असर?

आय में वृद्धि और सरकारी नौकरी के योग! पढ़ें सूर्य के मेष राशि में गोचर क्या आपके जीवन पर क्या प्रभाव पड़ेगा। क्या बदल जाएगी आपकी किस्मत!


नवग्रहों का स्वामी सूर्य आज 14 अप्रैल 2018 से मेष राशि में गोचर कर रहा है। सुबह 8:28 बजे सूर्य मेष राशि में प्रवेश कर चुका है और 15 मई तक इसी राशि में स्थित रहेगा। सूर्य की चाल में हुए परिवर्तन का असर सभी राशियों पर देखने को मिलेगा। चूंकि सूर्य सरकारी सेवा और सम्मान का कारक माना जाता है, इसलिए इस दौरान सभी 12 राशियों के जातकों को अपने जीवन में कई परिवर्तन देखने को मिलेंगे। इसके साथ ही आज पंजाब और हरियाणा समेत देश-दुनिया के कई हिस्सों में बैसाखी का पर्व भी मनाया जा रहा है।

आईये जानते सभी 12 राशियों पर सूर्य के इस गोचर का होने वाला प्रभाव-


यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। चंद्र राशि कैल्कुलेटर से जानें अपनी चंद्र राशि

मेष


इस दौरान आपको सरकारी कामकाज में लाभ मिलने की प्रबल संभावना दिखाई दे रही है...आगे पढ़ें

वृषभ


आपके विदेश यात्रा पर जाने के योग हैं, हालाँकि जो जातक पहले ही विदेश में हैं उनके करियर की गाड़ी में गति देखने को मिलेगी...आगे पढ़ें

मिथुन


इस दौरान आपकी आमदनी में वृद्धि होने की संभावना है। इसके साथ ही समाज में आपकी ख़्याति बढ़ेगी...आगे पढ़ें

साल 2018 में कैसी होगी आपकी आर्थिक स्थिति, प्राप्त करें: आर्थिक रिपोर्ट 2018

कर्क


सूर्य आपकी राशि से दसवें भाव में जाएगा। जिसके परिणाम स्वरूप आपको इसके अनुकूल परिणाम मिलेंगे। कार्य क्षेत्र में आपका कद बढ़ सकता है...आगे पढ़ें

सिंह


समाज में आपका सम्मान बढ़ेगा। किस्मत का साथ मिलने के कारण परिस्थितियाँ आपके अनुकूल हो जाएंगी...आगे पढ़ें

कन्या


शारीरिक समस्याएँ हो सकती हैं। बुखार, सिर दर्द के अलावा अन्य बीमारियाँ का सामना करना पड़ सकता है...आगे पढ़ें


सूर्य से शुभ फल प्राप्त करने के लिए धारण करें: माणिक्य रत्न

तुला


इस दौरान आपकी सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। जीवन साथी की मदद से भी आपको आर्थिक लाभ संभव है...आगे पढ़ें

वृश्चिक


स्वभाव में साहस की वृद्धि होगी और आप किसी भी चुनौती को सहर्ष स्वीकार करने से पीछे नहीं हटेंगे...आगे पढ़ें

धनु


आपकी आय में वृद्धि होगी। बच्चे पढ़ाई में बेहतर प्रदर्शन करेंगे। प्रेम संबंध में आपका अहंकार दखल दे सकता है...आगे पढ़ें

सूर्य ग्रह से संबंधित दोषों को दूर करने के लिए करें: सूर्य की शांति के उपाय

मकर


आप अपने परिजनों के ऊपर हावी होने का प्रयास कर सकते हैं, जिससे आपका पारिवारिक माहौल बिगड़ सकता है...आगे पढ़ें

कुंभ


इस गोचर के प्रभाव से आप ऊर्जावान रहेंगे। जीवन साथी की मदद से आपको आर्थिक लाभ मिल सकता है...आगे पढ़ें

मीन


इस दौरान आपकी भाषा में कड़वापन रह सकता है, जिससे कुछ लोग आपसे नाराज़ अथवा दुःखी हो सकते हैं...आगे पढ़ें

मुफ्त में करे वैवाहिक कुंडली का मिलान
Read More »

कल मनाया जाएगा बैसाखी का त्यौहार

ज्योतिषीय महत्व जानकर हैरान हो जाएंगे आप! कल यानि 14 अप्रैल 2018 को बैसाखी का पर्व धूमधाम से मनाया जाएगा। आईये लेख के माध्यम से जानते हैं इस त्यौहार का सांस्कृतिक, धार्मिक और ज्योतिषीय महत्व।


भारत सांस्कृतिक विविधताओं से परिपूर्ण एक देश है। यहां हर साल कई पर्व और त्यौहार मनाये जाते हैं। इन्ही पर्वों मे से एक है ‘बैसाखी’ का त्यौहार। यह पर्व विशेष रूप से पंजाब और हरियाणा में किसानों द्वारा मनाया जाता है। हालांकि अब इसकी लोकप्रियता ने देशभर में देखने को मिलती है और सिख समुदाय के लोग इस पर्व को धूमधाम से मनाते हैं। पूरे पंजाब में घरों से पकवानों की खुशबू के साथ-साथ रंग बिरंगी पोशाकों में सजे युवक-युवतियाँ भंगड़ा-गिद्दा करते हुए नजर आते हैं। बैसाखी का पर्व किसान रबी की फसल पकने की खुशी के रूप मे मनाते हैं, इसलिए इसे खेती का त्यौहार भी कहा जाता है। वहीं केरल में इस पर्व को “विशु’ के रूप में नये वर्ष की शुरुआत के तौर पर मनाते हैं।

बैसाखी पर होने वाले आयोजन


  • पंजाब और हरियाणा समेत देश-विदेश के कई हिस्सों में बैसाखी का पर्व धूमधाम से मनाया जाता है। 
  • इस दिन गेहूं, तिलहन और गन्ने की फसल काटने की शुरुआत होती है। लोग मंदिर और गुरुद्वारे मे जाकर भगवान का धन्यवाद करते हैं।
  • बैसाखी के मौके पर कई जगहों पर धार्मिक कार्यक्रम और मेलों का आयोजन होता है।
  • स्वर्ण मंदिर, जिसे श्री हरमंदिर साहिब के रूप में भी जाना जाता है, सिख समुदाय के लिए सबसे पवित्र स्थान माना जाता है। दुनियाभर से सिख समुदाय के लोग यहां आयोजित भव्य दिव्य समारोह में भाग लेने के लिए स्वर्ण मंदिर की यात्रा करते हैं।
  • बैसाखी पर आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों में युवक-युवतियां भांगड़ा और गिद्दा जैसे लोकनृत्य करते हैं।


बैसाखी का धार्मिक और ज्योतिषीय महत्व


बैसाखी के पर्व का सामाजिक-सांस्कृतिक महत्व होने के साथ-साथ धार्मिक महत्व भी है। आईये जानते हैं इस पर्व से जुड़ी धार्मिक मान्यताएँ-

खालसा पंथ की स्थापना- सिख समुदाय के लिए बैसाखी के त्यौहार का बड़ा महत्व है। क्योंकि इस दिन सिखों के दसवें गुरु, गुरु गोबिंद सिंह जी ने आनंदपुर साहिब में खालसा पंथ की स्थापना की थी। खालसा का अर्थ है शुद्ध, पावन या पवित्र। खालसा पंथ की स्थापना का उद्देश्य लोगों को मुगल शासकों के अत्याचारों से मुक्त कराना था।

बैसाखी का ज्योतिषीय महत्व- हिन्दू ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बैसाखी का त्यौहार मंगलकारी होता है। इस दिन विशाखा नक्षत्र के आकाश में होने से बैशाख महीने की शुरुआत होती है। वहीं सूर्य इस दिन मेष राशि में प्रवेश करता है। ज्योतिष विद्वानों के अनुसार इस ज्योतिषीय घटनाक्रम का मानव जीवन पर प्रभाव देखने को मिलता है। हिन्दू कैलेंडर में इस दिन को सौर नववर्ष भी कहा जाता है। वहीं पौराणिक मान्यता के अनुसार बैसाखी के दिन ही गंगा जी स्वर्ग से पृथ्वी पर आई थीं, इसलिए हिंदू धर्म के लोग इस दिन गंगा स्नान करने को पवित्र मानते हैं व देवी गंगा की स्तुति करते हैं।

“विशु” यानि मलयालम नववर्ष


विशु केरल का प्रसिद्ध उत्सव है। यह पर्व आज मलयालम नववर्ष के शुभारंभ होने पर मनाया जा रहा है। केरल में विशु उत्सव के दिन धान की बुआई का काम शुरू होता है। इस दिन को यहाँ "मलयाली न्यू ईयर विशु" के नाम से पुकारा जाता है। 

विशु पर्व पर कई धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं। विशु के पहले उत्तरी केरल के मन्दिरों में 'ब्रैटम' का आयोजन होता है। ब्रैटम एक तरह से पुरुषों के द्वारा अपने इष्टदेव को रिझाने के लिए प्रार्थना है। इस त्योहार पर परिवार के छोटे बच्चों को कुछ नगद धन देने की भी परम्परा है। इसे "विशु कैनीतम" कहा जाता है। मान्यता है कि यह कार्य भविष्य में उनके बच्चों की समृद्धि को सुनिश्चित करता है।


एस्ट्रोसेज की ओर से सभी पाठकों को बैसाखी और विशु पर्व की शुभकामनाएँ!

Read More »