साप्ताहिक राशिफल, जानें किसे क्या मिलेगा?

इस सप्ताह इन राशि वालों की होगी चांदी! पढ़ें साप्ताहिक राशिफल और जानें इस सप्ताह क्या कहते हैं आपके सितारे? नौकरी, व्यवसाय और पारिवारिक जीवन से जुड़ी भविष्यवाणी।

36%
छूट

पूछें के पी सिस्टम के ज्योतिषी से

कीमत : रु 715
सेल कीमत : रु 455
36%
छूट

पूछें लाल किताब के ज्योतिषी से

कीमत : रु 715
सेल कीमत : रु 455
41%
छूट

एस्ट्रोसेज महा कुंडली

कीमत : रु 1105
सेल कीमत : रु 650


यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। चंद्र राशि कैल्कुलेटर से जानें अपनी चंद्र राशि।

मेष: यह सप्ताह मेष राशि के जातकों के लिए सामान्य रहने वाला है। इस दौरान आप स्वयं में ऊर्जा की कमी को महसूस करेंगे। आपकी दिनचर्या बेहद व्यस्त रहेगी। पारिवारिक जीवन में भी विवाद हो सकते हैं और काम में मन नहीं लगेगा। छात्र भी बेचैनी महसूस करेंगे लेकिन पढ़ाई में उनका प्रदर्शन अच्छा रहेगा। इस सप्ताह आमदनी अच्छी होगी। माता के स्वास्थ्य में गिरावट आ सकती है। आपको सलाह है कि वाहन सावधानी से चलाएँ। करियर के क्षेत्र में उतार-चढ़ाव देखने को मिलेंगे। 

प्रेमफल: प्रेम-प्रसंग के मामलों के लिए यह सप्ताह अच्छा रहने वाला है। सप्ताह की शुरुआत बेहतर रहेगी और आपसी संपर्क बना रहेगा। मध्य भाग में आप अपने रिश्ते को मजबूती देने का प्रयास करेंगे और सप्ताहांत में प्यार और बढ़ेगा। यदि विवाहित हैं तो प्यार के साथ-साथ नोक-झोंक भी हो सकती है। इस सप्ताह किसी नये रिश्ते की शुरुआत हो सकती है, जो आपको बेहद सुकून पहुंचाएगी।

भाग्य स्टार: 2.5/5

उपाय: बुधवार के दिन शाम को सफेद चंदन का दान करें।


वृषभ: इस सप्ताह वृषभ राशि के जातक ऊर्जावान रहेंगे। लक्ष्यों के प्रति दृढ़ निश्चय और ज़बरदस्त उत्साह देखने को मिलेगा। इस दौरान आप धन का संचय करने और धन लाभ की संभावना भी बन रही हैं। परिवार में कोई शुभ कार्य हो सकता है। पारिवारिक जीवन में शांति और सद्भाव बना रहेगा। इस सप्ताह वाहन सुख का आनंद प्राप्त हो सकता है। भाई-बहन को स्वास्थ्य संबंधी परेशानी हो सकती है। छात्रों के बौद्धिक ज्ञान में वृद्धि होगी और वे परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करेंगे। कार्यस्थल पर आपका पद और मजबूत होगा।

प्रेमफल: लव लाइफ के लिए यह सप्ताह अच्छा रहने वाला है। सप्ताह की शुरुआत में प्रियतम के साथ कहीं घूमने का प्लान बन सकता है। मध्य भाग में परिवार से जुड़े मामलों में व्यस्त रहेंगे। वहीं सप्ताहांत में आप अपने पार्टनर के साथ ढेर सारी मस्ती करेंगे। 

भाग्य स्टार: 3.5/5

उपाय: छोटी कन्याओं को मिश्री या खीर बांटे और उनका आशीर्वाद लें।


मिथुन: व्यक्तिगत मामलों के लिए यह सप्ताह अच्छा रहेगा लेकिन पारिवारिक मामलों को लेकर आप परेशान रह सकते हैं। क्योंकि आपके कुटुंब में कोई विवाद हो सकता है। हालांकि आपके अपने पारिवारिक जीवन में शांति बनी रहेगी। इस दौरान आपके साहस और संकल्प में वृद्धि होगी। कार्यस्थल पर अच्छे प्रदर्शन से आपको पहचान मिलेगी। आपकी वीरता और प्रतिबद्धता में वृद्धि होगी। इस सप्ताह बात करने से ही बात बनेगी। धन लाभ होने की संभावना है लेकिन राह में चुनौतियां भी आएंगी।

प्रेमफल: सप्ताह की शुरुआत बेहद शानदार रहेगी। इस दौरान प्रियतम आपकी ओर आकर्षित होगा और आपका प्यार परवान चढ़ेगा। हालांकि मध्य भाग में कुछ ग़लतफहमियां हो सकती हैं जो विवाद का कारण बनेंगी। सप्ताहांत आपके पक्ष में रहेगा और आप प्रियतम के साथ घूमेंगे-फिरेंगे। यदि विवाहित हैं तो जीवनसाथी की तबीयत कमजोर रह सकती है। इस दौरान उन्हें आपकी मदद की आवश्यकता रहेगी।

भाग्य स्टार: 2.5/5

उपाय: कुत्तों को रोजाना कुछ खिलाएं।


कर्क: इस सप्ताह विभिन्न गतिविधियों की वजह से शांति भंग होगी और मानसिक तनाव बढ़ सकता है। बेवजह विवाद करने से बचें अन्यथा वैवाहिक जीवन में परेशानियां खड़ी हो सकती हैं। इस सप्ताह आपकी और आपके जीवनसाथी की सेहत गड़बड़ा सकती है। कार्यस्थल पर सीनियर्स की नज़र में बने रहने के लिए आपको बेहतर प्रदर्शन करना होगा। सहकर्मियों से आपको मदद मिलेगी। भाई-बहन भी आपकी मदद करेंगे और आर्थिक सहयोग भी कर सकते हैं। माता का स्वास्थ्य अच्छा रहेगा और वे किसी लंबी दूरी की यात्रा पर जा सकती हैं।

प्रेमफल: प्रेम-प्रसंग के मामलों के लिए यह सप्ताह मिश्रित फल देने वाला होगा। यदि विवाहित हैं तो जीवनसाथी के साथ मतभेद हो सकते हैं। वहीं प्रेमी युगल के लिए सप्ताह की शुरुआत थोड़ी धीमी रहेगी हालांकि मध्य भाग अच्छा रहेगा और सप्ताहांत में सब कुछ पहले जैसा हो जाएगा। इस दौरान आपका पार्टनर हर तरह से आपकी मदद करेगा।

भाग्य स्टार: 2.5/5

उपाय: चांदी के बर्तनों को उपयोग करना लाभकारी रहेगा।

ऑनलाइन सॉफ्टवेयर से प्राप्त करें नि:शुल्क जन्म कुंडली


सिंह: यह सप्ताह सिंह राशि के जातकों के लिए मिला-जुला रहेगा। सेहत में थोड़ी बहुत गिरावट हो सकती है इसलिए लापरवाही बिल्कुल नहीं बरतें। इस सप्ताह लंबी दूरी या विदेश यात्रा के योग बन रहे हैं। पारिवारिक जीवन सुखमय बीतेगा और घर में कोई शुभ कार्य संपन्न हो सकता है। आपके अच्छे काम की वजह से आपको लाभ और पहचान मिलेगी। इस हफ्ते प्रॉपर्टी से संबंधित विवाद की संभावना है।

प्रेमफल: लव लाइफ के लिए यह सप्ताह मिला-जुला रहने वाला है। इस दौरान प्यार बना रहेगा लेकिन तकरार भी होगी। सप्ताह की शुरुआत थोड़ी धीमी होगी लेकिन मध्य भाग और सप्ताहांत बेहद अच्छा होगा। यदि विवाहित हैं तो पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में संतुलन बनाकर चलें। क्योंकि इस सप्ताह जीवनसाथी के साथ वैचारिक टकराव हो सकता है।

भाग्य स्टार: 3/5

उपाय: शनिवार के दिन छायापात्र दान करें।


कन्या: यह सप्ताह कन्या राशि वालों के लिए सकारात्मक रहेगा। इस अवधि में आपके बौद्धिक ज्ञान में वृद्धि होगी। किसी विदेशी व्यक्ति से संपर्क बनेंगे और लाभ होने की संभावना है। इस दौरान खर्च भी बहुत होगा। वहीं पारिवारिक जीवन में शांति बनी रहेगी और सभी सदस्य आनंदित महसूस करेंगे। कार्यस्थल पर मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी और आपका कद बढ़ेगा। कई माध्यमों से लाभ मिलने की संभावना है। भाई-बहनों से आर्थिक मदद मिल सकती है।

प्रेमफल: प्रेम-प्रसंग के मामलों के लिए यह सप्ताह थोड़ा सुस्त रहेगा। सप्ताह की शुरुआत धीमी होगी। इस दौरान विवाद या गलतफहमी हो सकती है। हफ्ते का मध्य भाग भी कमजोर ही रहेगा लेकिन सप्ताहांत बेहद बेहतर रहने वाला है। इस दौरान आपके प्रेम जीवन में नई बहार आएगी। यदि विवाहित हैं तो जीवनसाथी के साथ अच्छा समय व्यतीत करेंगे।

भाग्य स्टार: 3.5/5

उपाय: भगवान शिव की आराधना करें और उन्हें सफेद चंदन चढ़ाएं।


तुला: इस सप्ताह नौकरी और व्यवसाय में बहुत हलचल देखने को मिलेगी। कार्यस्थल पर बेवजह की बातों अथवा विवाद से बचने की कोशिश करें। पारिवारिक जीवन और सेहत में भी उतार-चढ़ाव आएंगे। माता का स्वास्थ्य भी प्रभावित रह सकता है। इस सप्ताह धन लाभ की संभावना बन रही है। वहीं दूसरी ओर आप धार्मिक कार्यों पर कुछ पैसा खर्च कर सकते हैं।

प्रेमफल: सप्ताह की शुरुआत अच्छी रहेगी और मध्य भाग भी आपके पक्ष में रहेगा। हालांकि सप्ताहांत सामान्य रह सकता है। यदि विवाहित हैं तो काम में जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। वैवाहिक जीवन में प्यार बढ़ेगा लेकिन विवादों से दूर रहने की कोशिश करें। 

भाग्य स्टार: 3.5/5

उपाय: देवी दुर्गा की आराधना करें और उन्हें सफेद रंग की मिठाई अर्पित करें।


वृश्चिक: इस सप्ताह वृश्चिक राशि के जातकों को कुछ सौगातें मिल सकती है। नौकरी में पदोन्नति और अधिकारों में बढ़ोत्तरी के योग हैं। सामाजिक प्रतिष्ठा में भी वृद्धि होगी। इस हफ्ते आप लंबी दूरी की यात्रा पर जा सकते हैं। पारिवारिक जीवन में सद्भाव बना रहेगा, आपके भाई-बहनों को स्वास्थ्य संबंधी समस्या हो सकती है। आमदनी बेहतर रहेगी और धन का आवागमन अच्छा रहेगा। परिवार के सदस्यों और मित्रों के साथ आप खूब मस्ती करेंगे। उच्च शिक्षा के लिए विदेश जाने की प्रबल संभावना बन रही है।

प्रेमफल: सप्ताह की शुरुआत और मध्य भाग सामान्य रहेगा लेकिन सप्ताहांत बेहद अच्छा रहने वाला है। आप प्रियतम के साथ अच्छा समय गुजारेंगे और आपके रिश्तों में मजबूती आएगी। इस दौरान कुछ लोग शादी की योजना भी बना सकते हैं। वे लोग जो विवाहित हैं उन्हें जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा।

भाग्य स्टार: 4/5

उपाय: सूर्य देव की आराधना करें और केसर युक्त जल उन्हें अर्पित करें।


धनु: इस सप्ताह धनु राशि के जातकों के जीवन में मानसिक अशांति बनी रह सकती है हालांकि इससे काम प्रभावित नहीं होगा। माता-पिता की सेहत अच्छी रहेगी लेकिन आपका स्वास्थ्य कमजोर रह सकता है लेकिन सप्ताह के मध्य तक सेहत में सुधार हो जाएगा। सप्ताहांत में पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ अच्छी गुजरेगी। कुल मिलाकर पारिवारिक जीवन में सद्भाव बना रहेगा। आपके भाई-बहन विदेश यात्रा पर जा सकते हैं। इस सप्ताह आमदनी की तुलना में खर्च अधिक होगा। कामुक विचारों को अपने ऊपर ज्यादा हावी नहीं होने दें।

प्रेमफल: लव लाइफ में इस सप्ताह तकरार हो सकती है हालांकि रोमांस बरकरार रहेगा। आप अपने प्रियतम के साथ अच्छा समय गुजारेंगे। इस दौरान आप लंच या डिनर के लिए बाहर जा सकते हैं। सप्ताह की शुरुआत अच्छी रहेगी जबकि मध्य भाग कमजोर रहेगा और सप्ताहांत बेहद अच्छा रहेगा। वे जातक जो विवाहित हैं, जीवनसाथी के साथ अच्छा समय व्यतीत करेंगे और एंजॉय करने के लिए कहीं बाहर घूमने भी जा सकते हैं।

भाग्य स्टार: 3/5

उपाय: बुधवार के रोज शाम के समय सात प्रकार के अनाज का दान करें।


मकर: इस सप्ताह आध्यात्मिकता की ओर आपका रुझान अधिक रहेगा। नौकरी या व्यवसाय में कोई अच्छी खबर मिल सकती है। प्रोफेशनल लाइफ में उन्नति होगी हालांकि पारिवारिक जीवन में कुछ मतभेद हो सकते हैं। जीवनसाथी को स्वास्थ्य संबंधी परेशानी हो सकती है। अगर पार्टनरशिप में बिजनेस कर रहे हैं तो समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आय में बढ़ोत्तरी होगी और कई माध्यमों से लाभ प्राप्त होगा। हालांकि इस दौरान कुछ बड़े खर्च आ सकते हैं। पिता की सेहत में गिरावट देखने को मिल सकती है। छात्रों के लिए यह समय अच्छा रहने वाला है। परिवार के साथ तीर्थ दर्शन के लिए जा सकते हैं।

प्रेमफल: विवाहित जातकों के दांपत्य जीवन में प्यार बरकरार रहेगा लेकिन छोटे-मोटे विवाद भी की संभावना है। सप्ताह की शुरुआत अच्छी रहेगी, मध्य भाग भी अच्छा रहेगा जबकि सप्ताहांत सामान्य रहने की संभावना है। इस दौरान आप अपने पार्टनर के साथ लव मैरिज करने के बारे में भी सोच सकते हैं। हालांकि अपनी इच्छा और विचार अपने प्रियतम पर थोपने की कोशिश नहीं करें। प्यार करें और उन्हें समझने की कोशिश करें।

भाग्य स्टार: 3/5

उपाय: गाय को गेहूं और गुड़ खिलाएं।


कुंभ: इस सप्ताह कुंभ राशि के जातक पूर्ण समर्पण के साथ काम करेंगे। कार्य में अधिक व्यस्त होने की वजह से परिवार को ज्यादा समय नहीं दे पाएंगे। पारिवारिक जीवन में उतार-चढ़ाव आएंगे। इस दौरान पिता की सेहत थोड़ी कमज़ोर रह सकती है। परीक्षा में अच्छा परिणाम प्राप्त करने के लिए छात्रों को अधिक मेहनत करनी होगी। अपने से विपरीत लिंग के लोगों से मतभेद हो सकते हैं। धन हानि और अधिक खर्च की संभावना है हालांकि आमदनी भी अच्छी होगी। धर्म और अध्यात्म की ओर झुकाव बढ़ेगा। इस पूरे सप्ताह वाहन सावधानी से चलाएं।

प्रेमफल: यदि विवाहित हैं तो जीवनसाथी के साथ वैचारिक मतभेद हो सकते हैं इसलिए विवाद करने से बचें। प्रेमी युगल के लिए सप्ताह की शुरुआत अच्छी होगी। इस दौरान प्यार बढ़ने से रिश्तों में और मजबूती आएगी। सप्ताह का मध्य भाग सामान्य और सप्ताहांत अच्छा रहेगा।

भाग्य स्टार: 2.5/5

उपाय: गुरुवार के दिन पीपल के वृक्ष को बिना स्पर्श किए जल चढ़ाएं।


मीन: इस सप्ताह मीन राशि के जातकों के लिए कुछ खास रहने की संभावना है। नौकरी और व्यवसाय में स्थितियां बेहतर होंगी और आप अच्छा महसूस करेंगे। हालांकि इस दौरान कुछ विवाद भी हो सकते हैं। पारिवारिक जीवन पहले की तरह सामान्य गति से चलता रहेगा। प्रॉपर्टी से संबंधित कुछ मामले सामने आ सकते हैं। छात्रों को पढ़ाई में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। कई माध्यमों से आय होने की वजह से लाभ होगा। इस सप्ताह आपके पिता जी की तबीयत कमजोर रह सकती है। 

प्रेमफल: विवाहित जातकों का दांपत्य जीवन संतोषजनक रहेगा। हालांकि शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए किसी भी विवाद से बचें। वहीं प्रेमी युगल के लिए सप्ताह की शुरुआत बहुत अच्छी रहेगी, जबकि मध्य भाग थोड़ा धीमा रहेगा लेकिन सप्ताहांत बेहद अच्छा रहेगा। इस दौरान आपकी लव लाइफ में कई रोमांटिक पल आएंगे। आप अपने पार्टनर के साथ बाहर घूमने या डिनर के लिए जा सकते हैं।

भाग्य स्टार: 3/5

उपाय: हनुमान जी की पूजा करें और बजरंग बाण का पाठ करें।

Read More »

राहु का कर्क में राशि गोचर, ये होंगे प्रभाव!

जानें किस राशि पर होगी राहु की कृपा? पढ़ें राहु के कर्क राशि में होने वाले गोचर का ज्योतिषीय विश्लेषण। नौकरी, व्यवसाय और आपके पारिवारिक जीवन पर क्या होगा इसका असर?

36%
छूट

पूछें के पी सिस्टम के ज्योतिषी से

कीमत : रु 715
सेल कीमत : रु 455
36%
छूट

पूछें लाल किताब के ज्योतिषी से

कीमत : रु 715
सेल कीमत : रु 455
41%
छूट

एस्ट्रोसेज महा कुंडली

कीमत : रु 1105
सेल कीमत : रु 650

राहु जिसे वैदिक ज्योतिष में क्रूर ग्रह कहा गया है। यह 18 अगस्त को कर्क राशि में गोचर कर रहा है और 7 मार्च तक इसी राशि में स्थित रहेगा। राहु के इस गोचर का प्रभाव सभी 12 राशियों पर होगा। आईये इस लेख के माध्यम से जानते हैं आपके जीवन पर क्या होगा राहु के इस गोचर का असर?


यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी चंद्र राशि जानने के लिए क्लिक करें: चंद्र राशि कैल्कुलेटर

मेष: निवास स्थान और नौकरी में परिवर्तन की संभावना। राहु के प्रभाव से पारिवारिक जीवन में हो सकती है उथल-पुथल। माता की सेहत भी हो सकती है प्रभावित… आगे पढ़ें

वृषभ: जीवनसाथी की ओर से गुड न्यूज मिलने की संभावना। छोटी दूरी की यात्राएं होंगी अनुकूल। भाई-बहनों के विदेश जाने के बन रहे हैं योग। पिता की सेहत में हो सकती है गिरावट...आगे पढ़ें

मिथुन: काम के सिलसिले में घर से दूर रहने की संभावना। कई तरह की चुनौतियों से करना पड़ सकता है सामना। जीवनसाथी की सेहत में हो सकती है गिरावट, वाहन चलाते समय सावधानी बरतें...आगे पढ़ें

कर्क: वैवाहिक जीवन के लिए चुनौतीपूर्ण रहेगा समय लेकिन करियर से जुड़े मामलों के लिए समय अच्छा है। दोस्तों या क़रीबी लोगों से हो सकता है विवाद। निर्णय लेने की क्षमता हो सकती है प्रभावित...आगे पढ़ें

निःशुल्क ज्योतिष सॉफ्टवेयर से बनाएँ ऑनलाइन जन्म कुंडली

सिंह: लंबी दूरी की यात्रा पर या विदेश जाने के बन रहे हैं योग। छात्रों की राह में आ सकती है मुश्किल। इस अवधि में खर्च बढ़ेंगे, अनैतिक कार्यों से बचें वरना मुसीबत में फंस सकते हैं...आगे पढ़ें

कन्या: आत्म विश्वास में वृद्धि होने से मिलेगी सफलता, सामाजिक जीवन में भी बढ़ेगा मान-सम्मान। इस दौरान मिल सकती है कोई बड़ी सफलता। प्रियतम से बढ़ सकती है दूरियां...आगे पढ़ें

तुला: कार्यस्थल पर विवाद की संभावना, नौकरी पर आ सकता है संकट। पारिवारिक जीवन में भी परेशानी के संकेत। काम के सिलसिले में रहना पड़ सकता है घर से दूर...आगे पढ़ें

वृश्चिक: शुभ समाचार मिलने से नहीं रहेगा आपकी खुशी का ठिकाना। लंबी दूरी की यात्रा पर जाने का बन रहा है योग। लव लाइफ में भी होगा सुधार, प्रियतम के साथ गुजारेंगे अच्छे पल...आगे पढ़ें

धनु: विवाद की वजह से घर की शांति हो सकती है भंग, इस अवधि में धन हानि की भी संभावना हालांकि अचानक लाभ मिलने के भी योग। इस अवधि में वाहन सावधानी से चलाएं...आगे पढ़ें

शादी के लिए करें मुफ्त कुंडली मिलान

मकर: नौकरी और व्यवसाय में सफलता के योग, नौकरी पेशा लोगों को मिल सकती है प्रमोशन की सौगात। वैवाहिक जीवन में थोड़ा संभलकर चलने का समय। लव मैरिज की भी बन रही है संभावना…आगे पढ़ें

कुंभ: कानूनी मामलों में फैसला आपके पक्ष में आने की संभावना। छात्रों को प्रतियोगी परीक्षा में सफलता मिलने के योग। करियर के क्षेत्र में भी मिल सकते हैं अच्छे अवसर...आगे पढ़ें

मीन: आमदनी में वृद्धि होने की संभावना। मनोविज्ञान से संबंधित विषयों को लेकर बढ़ सकती है रुचि। गर्भवती महिलाओं के लिए संभलकर चलने का समय। कार्यक्षेत्र में संभलकर कदम बढ़ाएं...आगे पढ़ें
Read More »

सिंह राशि में सूर्य का महागमन, जानें प्रभाव

सूर्य के प्रभाव से नौकरी, व्यवसाय में सफलता के प्रबल योग! पढ़ें सूर्य के सिंह राशि में होने वाले गोचर का ज्योतिषीय प्रभाव और जानें जरूरी उपाय।


सूर्य ग्रह 17 अगस्त 2017 को सिंह राशि में गोचर कर रहा है। वैदिक ज्योतिष में सूर्य देव को आत्मा, पिता और सम्मान का कारक कहा माना जाता है। आईये इस ब्लॉग के माध्यम से जानते हैं सूर्य के इस गोचर का सभी 12 राशियों पर होने वाला ज्योतिषीय प्रभाव।


नोटः यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी चंद्र राशि जानने के लिए क्लिक करें: चंद्र राशि कैल्कुलेटर

मेष: सूर्य के प्रभाव से मिलेगी सफलता और सम्मान। नौकरी और व्यवसाय में कामयाबी के योग। आय में बढ़ोत्तरी के संकेत और सरकारी क्षेत्र से भी लाभ मिलने की संभावना… आगे पढ़ें

वृषभ: सूर्य के गोचर से मिलेगी नौकरी में पदोन्नति की सौगात। जीवनसाथी के मान-सम्मान में भी होगी बढ़ोत्तरी लेकिन घर-परिवार में रह सकता है अशांति का वातावरण...आगे पढ़ें

मिथुन: सूर्य देव की कृपा से साहस में होगी वृद्धि, आप दृंढ इच्छाशक्ति के साथ बढ़ेंगे आगे। जीवनसाथी की चमकेगी किस्मत लेकिन भाई-बहनों को करना पड़ सकता है संघर्ष..आगे पढ़ें

कर्क: सूर्य के गोचर के प्रभाव से क्रोध और अहंकार बढ़ेगा, घर में विवाद भी संभव। आर्थिक पक्ष रहेगा मजबूत, धन की बचत होगी। सरकारी अधिकारियों के माध्यम से लाभ के योग...आगे पढ़ें

सिंह: प्रबल लाभ की बन रही है संभावना। सूर्य के प्रभाव से शारीरिक ऊर्जा में होगी वृद्धि और व्यक्तित्व में आएगा निखार। वाणी में बढ़ सकती है कड़वाहट, संयमित भाषा बोलें...आगे पढ़ें

कन्या: नौकरी में सफलता और ट्रांसफर के योग, विदेश जाने का मिल सकता है मौका। कोर्ट-कचहरी के मामलों में मिलेगी कामयाबी। धन की बचत पर ध्यान देने की ज़रुरत...आगे पढ़ें


तुला: उच्च आर्थिक लाभ मिलने के प्रबल योग। लव लाइफ में हो सकता है विवाद, बच्चों की सेहत में भी हो सकती है गिरावट। प्रोफेशनल लाइफ में जीवनसाथी को सफलता मिलने की संभावना...आगे पढ़ें

वृश्चिक: नौकरी और व्यवसाय में सफलता मिलने की संभावना। नौकरी पेशा लोगों को मिल सकती है प्रमोशन की सौगात। मॉं की सेहत का रखना होगा खास ख्याल...आगे पढ़ें

धनु: दान-धर्म के कार्यों के प्रति बढ़ेगी रुचि, लंबी दूरी की यात्रा हो सकती है लाभकारी। सूर्य के प्रभाव से भाग्य का मिलेगा साथ। आपके भाई-बहनों को करना पड़ सकता है संघर्ष...आगे पढ़ें

मकर: अचानक धन लाभ या धन हानि की संभावना, शारीरिक कष्ट से भी होगी पीड़ा। सेहत रह सकती है कमजोर। गलत कार्य करने से बचें वरना प्रतिष्ठा पर लग सकता है दाग...आगे पढ़ें

शादी के लिए करें मुफ्त कुंडली मिलान

कुंभ: कार्यक्षेत्र में मिलेगी सफलता, नौकरी पेशा लोगों को मिल सकती है इंक्रीमेंट की सौगात। वैवाहिक जीवन में तनाव रहने से हो सकती है परेशानी। बिजनेस पार्टनरशिप में लाभ की संभावना...आगे पढ़ें

मीन: प्रतियोगी परीक्षा में सफलता मिलने के योग। कानूनी लड़ाई में फैसला आपके पक्ष में आने की प्रबल संभावना। कठिन परिश्रम का मिलेगा बेहतर परिणाम...आगे पढ़ें
Read More »

50% की छूट स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर

पाएँ अपनी सभी समस्याओं से आज़ादी, ज्योतिषीय परामर्श, रत्न, रुद्राक्ष, यंत्र और जड़ी पर 50% की भारी छूट के साथ।

ज्योतिषीय परामर्श

एस्ट्रोसेज के जाने माने ज्योतिषियों से परामर्श पर बड़ी छूट

36%
छूट

पूछें के पी सिस्टम के ज्योतिषी से

कीमत : रु 715
सेल कीमत : रु 455
36%
छूट

पूछें लाल किताब के ज्योतिषी से

कीमत : रु 715
सेल कीमत : रु 455
41%
छूट

एस्ट्रोसेज महा कुंडली

कीमत : रु 1105
सेल कीमत : रु 650

आज भारत की कुंडली में वर्ष परिवर्तन हो रहा है। यदि आप जानना चाहते हैं कि आने वाला समय भारत के लिए कैसा रहेगा, तो अभी पढ़ें – आज स्वतंत्रता दिवस-जन्माष्टमी की धूम

ज्योतिषीय उत्पाद 


रत्न - लैब सर्टिफाइड

50% तक की छूट

यन्त्र

40% तक की छूट

रुद्राक्ष - लैब सर्टिफाइड

37% तक की छूट

माला

50% तक की छूट

जड़ी

50% तक की छूट


Read More »

आज स्वतंत्रता दिवस-जन्माष्टमी की धूम

आजादी के 70 साल, चुनौतियां अभी बाकी हैं! पढ़ें भारत की आजादी के 70 साल पर एक विशेष ज्योतिषीय लेख, साथ ही जानें श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर्व का महत्व।


15 अगस्त 2017 को भारत अपने स्वतंत्रता दिवस की 70वीं वर्षगांठ मनाने जा रहा है। इन 70 सालों में भारत ने तकनीक, आर्थिक, शिक्षा, रक्षा और ऊर्जा समेत हर क्षेत्र में उन्नति की है लेकिन चुनौतियां अब भी बरकरार हैं। ऐसे में 15 अगस्त के बाद आने वाले समय में कैसी होगी भारत की तस्वीर? क्या आने वाले वक्त में देश के राजनीतिक हालात बदलेंगे, महंगाई कम होगी, रोजगार के नए अवसर मिलेंगे और चीन व पाकिस्तान समेत अन्य पड़ोसी देशों से कैसे होंगे भारत के रिश्ते? आइये भारत वर्ष की कुंडली के आधार पर जानते हैं इन सभी मुद्दों का ज्योतिष विश्लेषण। 


भारत को स्वतंत्रता 15 अगस्त 1947 की मध्य रात्रि में 12 बजे मिली थी, इसी समय आजाद भारत का जन्म हुआ। अत: इस समय के अनुसार भारत की जन्म कुंडली इस प्रकार है।

भारत वर्ष की कुंडली


इस कुंडली के अनुसार भारत वर्ष का वृषभ लग्न है और राहु लग्न भाव में स्थित है। मंगल द्वितीय भाव में बैठा हुआ है। शुक्र, बुध, सूर्य, चंद्रमा और शनि तृतीय भाव में स्थित हैं। वहीं बृहस्पति षष्ठम और केतु सप्तम भाव में बैठे हुए हैं। नवमांश कुंडली का लग्न मीन है, जो कि लग्न कुंडली में वृषभ से एकादश स्थान की राशि है। दोनों कुंडली की स्थिति सभी मामलों में लाभ और वृद्धि को दर्शाती हैं। वर्ष 1947 की शुरुआत से भारत वर्ष शनि, बुध, केतु, शुक्र और सूर्य की महादशा से गुजर चुका है। फरवरी 2017 से भारत पर चंद्रमा और राहु की दशा चल रही है। कुंडली के अनुसार चंद्रमा तृतीय भाव में कर्क राशि में स्थित है। वहीं राहु लग्न भाव में वृषभ राशि में बैठा है। तृतीय भाव साहस, पड़ोसी, परिवर्तन, चाल, संचार, महत्वाकांक्षा और मानसिक झुकाव को दर्शाता है। वहीं लग्न भाव स्वयं के शरीर, व्यक्तित्व और सुरक्षा का प्रतिनिधित्व करता है। चंद्रमा जो कि तृतीय भाव का स्वामी होकर तृतीय भाव में स्थित है। यह स्थिति अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आक्रामक छवि और आत्म विश्वास को दर्शाती है। 

क्या भारत की आर्थिक स्थिति होगी मजबूत?


अगस्त 2017 से अगस्त 2018 के बीच में भारत की अर्थव्यवस्था में जबरदस्त उछाल आएगा और आयात व निर्यात बढ़ेगा। बहुराष्ट्रीय कंपनी और विदेशी संस्थाओं के आगमन से अर्थव्यवस्था में और सुधार होगा। इस साल महंगाई नियंत्रण में रहेगी हालांकि जनता इससे संतुष्ट नहीं होगी। रोजगार बढ़ेगा लेकिन उसी अनुपात में बेरोजगारी भी बढ़ेगी। इस बीच निवेश को बढ़ाने के लिए आर्थिक और वाणिज्य से संबंधित कई बिल संसद में पेश होंगे। हाउस होल्ड आइटम्स, अल्ट्रा मॉर्डन टेक्नोलॉजी, फैशन और कॉस्मेटिक के क्षेत्र में अच्छी तेजी देखने को मिलेगी।

चीन और पाकिस्तान करेंगे परेशान


भारत की कुंडली में चंद्रमा तृतीय भाव का स्वामी होकर तृतीय भाव में बैठा है। यह स्थिति दर्शाती है कि अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर भारत का प्रभाव बढ़ेगा। राहु का गोचर कर्क राशि में होने से पड़ोसियों से विशेषकर चीन और पाकिस्तान से कुछ समस्याएं हो सकती हैं लेकिन भारत अपने दृंढ इच्छा शक्ति से अपना प्रभाव जमाने में कामयाब रहेगा। इसके अतिरिक्त विभिन्न मामलों में इंटरनेशनल लेवल पर भारत के राजनयिक कौशल का असर देखने को मिलेगा। 

क्या बदलेंगे देश के राजनीतिक हालात ?


15 अगस्त 2017 के बाद राहु के प्रभाव से भारतीय राजनीति में कई आश्चर्यजनक बदलाव देखने को मिल सकते हैं। राजनीतिक दलों को लेकर जनता में असंतोष की भावना बढ़ सकती है। सियासी दल और सरकारों के खिलाफ तरह-तरह की आवाज़ें बुलंद होंगी। देश की सियासत में सांप्रदायिक मुद्दों को लेकर अधिक हलचल रहेगी। 

दुर्घटना और अपराध


चंद्रमा के कर्क राशि में और राहु के वृषभ राशि में स्थित होने से जल और भूमि संबंधी समस्याएं खड़ी हो सकती हैं। ऐसे में बाढ़, भूस्खलन, भूकंप, फसलों को नुकसान, पानी की कमी, भूमि संबंधी विवाद, पानी से जनति बीमारी और नदियों से जुड़े विवाद हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त महिलाओं के खिलाफ हिंसा में वृद्धि होने की संभावना है। 

अब पढ़ें वैष्णव मत के अनुसार आज मनाई जा रही श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष लेख

(नोट- वैष्णव पंथ के अनुयायी 15 अगस्त को जन्माष्टमी का पर्व मना रहे हैं, जबकि स्मार्त संप्रदाय ने 14 अगस्त को जन्माष्टमी पर्व मनाया है।)

जन्माष्टमी का पावन पर्व भगवान श्री कृष्ण के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। श्री कृष्ण भगवान विष्णु के आठवें अवतार माने जाते हैं। भगवान श्री कृष्ण ने देवकी एवं वसुदेव की आठवीं संतान के रूप में जन्म लिया था। श्री कृष्ण का जन्म भाद्रपद मास में कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को हुआ था इसलिए इस दिन को जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है। 

जन्माष्टमी व्रत एवं नियम-

  1. जन्माष्टमी का प्रारंभ व्रत और पूजा के साथ अष्टमी को होता है जबकि नवमी को पारणा के साथ इसका समापन किया जाता है। 
  2. इस दिन भगवान श्री कृष्ण की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है और उनका जन्मोत्सव मनाया जाता है।
  3. जन्माष्टमी व्रत में भोजन के रूप में अनाज को ग्रहण नहीं करें, बल्कि दूध, फलाहार लें और भगवान श्री कृष्ण के जन्म के बाद मध्य रात्रि को व्रत खोलें।

विस्तार से जानें: जन्माष्टमी पूजा विधि

जन्माष्टमी का महत्व-


शास्त्रों के अनुसार जन्माष्टमी का व्रत एवं पूजन का विशेष महत्व है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान कृष्ण जी ऐसे अवतार हैं जिनके दर्शन मात्र से प्राणियों के सारे दुख और पाप मिट जाते हैं। शास्त्रों में जन्माष्टमी के व्रत को व्रतराज कहा गया है। जो भक्त सच्ची श्रद्धा के साथ इस व्रत का पालन करते हैं उन्हें महापुण्य की प्राप्ति होती है। इसके अलावा संतान प्राप्ति, वंश वृद्धि और पितृ दोष से मुक्ति के लिए जन्माष्टमी का व्रत एक वरदान है। 

एस्ट्रोसेज की ओर से सभी पाठकों को स्वतंत्रता दिवस और जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ !
Read More »

जन्माष्टमी के दिन अवश्य करें ये 10 काम

कृष्ण जन्माष्टमी पर जानिए भगवान कृष्ण की लीला। आज देशभर में कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व बड़ी धूम-धाम के साथ मनाया जा रहा है। आइए इस पावन पर्व के महत्व पर डालते हैं एक नज़र।


जन्माष्टमी का पावन पर्व भगवान श्री कृष्ण के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। श्री कृष्ण भगवान विष्णु जी के आठवें अवतार हैं। भगवान श्री कृष्ण देवकी एवं वासुदेव की आठवीं संतान के रूप में भाद्रपद मास में कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को पैदा हुए इसलिए इस दिन को जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है। 


पूजा शुभ मुहूर्तः-


निशीथ पूजा मुहूर्त
24:04:21 से 24:47:33 बजे तक
अवधि
0 घंटे 43 मिनट
पारणा मुहूर्त
17:41:42 बजे के बाद, 15 अगस्त 2017

नोटः ऊपर दिया गया मुहूर्त नई दिल्ली के लिए है। जानें अपने शहर में जन्माष्टमी का शुभ मुहुर्त

विशेष: उपरोक्त मुहुर्त केवल स्मार्त संप्रदाय के लिए है जबकि वैष्णव पंथ के अनुयायी 15 अगस्त को जन्माष्टमी का पर्व मनाएंगे।

विष्णु तत्व की सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाने के लिए तुलसी की माला धारण करें: तुलसी की माला

जन्माष्टमी व्रत एवं नियम-

  1. जन्माष्टमी का प्रारंभ व्रत और पूजा के साथ अष्टमी को होता है जबकि नवमी को पारणा के साथ इसका समापन किया जाता है।
  2. इस पावन दिन भगवान श्रीकृष्ण की विशेष-पूजा अर्चना की जाती है।
  3. जन्माष्टमी व्रत में भोजन के रूप में दूध व फलाहार ग्रहण किये जाते हैं और भगवान श्रीकृष्ण के जन्म के बाद मध्य रात्रि को व्रत खोला जाता है।

विस्तार से जानें: जन्माष्टमी पूजा विधि

जन्माष्टमी का महत्वः-


शास्त्रों के अनुसार जन्माष्टमी का व्रत एवं पूजन का विशेष महत्व है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान कृष्ण जी ऐसे अवतार हैं जिनके दर्शन मात्र से प्राणियों के सारे दुख और पाप मिट जाते हैं। शास्त्रों में जन्माष्टमी के व्रत को व्रतराज कहा गया है। जो भक्त सच्ची श्रद्धा के साथ इस व्रत का पालन करते हैं उन्हें महापुण्य की प्राप्ति होती है। इसके अलावा संतान प्राप्ति, वंश वृद्धि और पितृ दोष से मुक्ति के लिए जन्माष्टमी का व्रत एक वरदान है। 

एस्ट्रोसेज की ओर से सभी पाठकों को जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ !
Read More »

साप्ताहिक राशिफल, जानें फलादेश में छुपे राज़!

इन राशि वालों को मिलेगी एक अच्छी ख़बर! जानें किस राशि के जातक के जीवन में होगी उथल-पुथल, किसे मिलेगी खुशियों की सौगात? जानने के लिए पढ़ें 14 अगस्त से 20 अगस्त का साप्ताहिक राशिफल। 


यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। चंद्र राशि कैल्कुलेटर से जानें अपनी चंद्र राशि।


मेष: यह सप्ताह मेष राशि के जातकों के लिए अच्छा रहने वाला है। ज़मीन या अचल संपत्ति खरीदने की संभावना बन रही है। भाई-बहनों से आर्थिक सहयोग मिल सकता है। इस हफ्ते आप कानूनी या उससे संबंधित मामलों में व्यस्त रह सकते हैं। इस दौरान इन कार्यों को समाप्त करने के लिए आपको कठिन परिश्रम करने की आवश्यकता होगी। करियर में भी उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं। वैवाहिक जीवन में भी उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं।

प्रेमफल: प्रेम प्रसंग के मामलों में यह समय स्वयं के मूल्यांकन का है। दोनों के बीच आपसी समझ को बनाये रखने के लिए, आपको अपने पार्टनर की भावना को समझना होगा। सप्ताह की शुरुआत अच्छी होगी और सप्ताहांत भी बेहतर रहेगा। गलतफहमी से बचने की कोशिश करें और बेवजह की बातें न करें।

भाग्य स्टार: 3/5

उपाय: भगवान भैरव के मंदिर पर काले रंग का झंडा लगाएं।


वृषभ: सप्ताह की शुरुआत में थोड़ा बहुत मानसिक दबाव रहेगा, हालांकि मध्य भाग अच्छा होगा। वहीं सप्ताह के अंत में छोटी-मोटी चिंताएं रहेंगी लेकिन समय बेहद बढ़िया रहेगा। इस दौरान आप धन अर्जित करने में सफल रहेंगे। विदेशों से भी लाभ की संभावना बन रही है। इस हफ्ते भाई-बहनों का सहयोग भी मिल सकता है। पारिवारिक जीवन में तनाव रहने से परेशानी होगी। इस दौरान कुछ ग़लतफहमी भी हो सकती है। कार्यस्थल पर अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे लेकिन एक समय में काम से मोह भंग हो सकता है। जीवनसाथी को प्रोफेशनल लाइफ में कामयाबी मिलेगी। 

प्रेमफल: प्रेम प्रसंग के मामलों के लिए यह सप्ताह मिला-जुला रहने की संभावना है। इस दौरान सप्ताह की शुरुआत सामान्य रहेगी, मध्य भाग अच्छा होगा और सप्ताहांत और भी बेहतर रहेगा। इस सप्ताह आप अपने प्रेमी के साथ कुछ मतभेदों को सुलझाकर एक-दूसरे के साथ अच्छा समय व्यतीत करेंगे।

भाग्य स्टार: 3.5/5

उपाय: गेहूं की रोटी में थोड़ा सा गुड़ रखकर गाय को खिलाएं।


मिथुन: यह सप्ताह मिथुन राशि के जातकों के लिए प्रगतिशील रहने वाला है। इस दौरान आपके व्यक्तित्व में अजीब सा आकर्षण होगा, जिसकी वजह से लोग आपकी ओर खींचे चले आएंगे। हालांकि भाषा पर संयम रखने की ज़रुरत है इसलिए ऐसी कोई बात न कहें जिससे दूसरे को बुरा लग जाए। इस सप्ताह आंख या गले से संबंधित रोग हो सकता है। किसी व्यक्ति के माध्यम से अच्छी खबर मिल सकती है। कार्यस्थल पर आपके काम को पहचान मिलेगी और पारिवारिक जीवन में भी शांति-सद्भाव बना रहेगा। सप्ताह की शुरुआत में लाभ, मध्य में खर्च और सप्ताह के अंत में अच्छी आय होगी।

प्रेमफल: वे जातक जो विवाहित हैं एक-दूसरे के साथ अच्छा समय व्यतीत करेंगे। इस दौरान आपका वैवाहिक जीवन और भी मजबूत होगा। प्रेमी युगल के लिए भी यह सप्ताह अच्छा रहने वाला है। सप्ताह की शुरुआत काफी अच्छी रहेगी। इस दौरान आप पार्टी, डिनर और मूवी का आनंद लेंगे। वहीं मध्य भाग सामान्य रहने की उम्मीद है, जबकि सप्ताह के अंत में आपके जीवन में कई प्यार भरे पल आएंगे। 

भाग्य स्टार: 4/5

उपाय: अधिक से अधिक रसीले फल खाएं और फल को रस पीयें।


कर्क: इस सप्ताह आपका पूरा ध्यान अपने करियर पर रहेगा। इस दौरान सप्ताह के मध्य भाग में आपको सफलता मिल सकती है। वहीं सप्ताहांत में भौतिक सुख-सुविधाओं पर कुछ खर्च भी हो सकता है। आपके स्वभाव में क्रोध की वृद्धि हो सकती है इसलिए खुद पर थोड़ा संयम रखें। इस अवधि में आपका वैवाहिक जीवन भी प्रभावित रह सकता है, छोटे-मोटे विवाद की संभावना है। पारिवारिक जीवन सामान्य रहेगा। इस सप्ताह धार्मिक यात्रा या तीर्थ दर्शन के योग बन रहे हैं।

प्रेमफल: प्रेम-प्रसंग के मामलों के लिए सप्ताह मिला-जुला रहने वाला है। वे जातक जो विवाहित हैं सप्ताह के अंत में उन्हें थोड़ी परेशानी हो सकती है। वहीं प्रेमी युगल के लिए यह समय चुनौतीपूर्ण रहने वाला है इसलिए संयम रखें और विवाद करने से बचें। सप्ताह की शुरुआत अच्छी रहेगी और मध्य भाग सामान्य होगा। वहीं सप्ताहांत में बहुत अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे। 

भाग्य स्टार: 3/5

उपाय: हाथ में चांदी का कड़ा पहनें।


सिंह: इस सप्ताह लंबी यात्रा के योग बन रहे हैं। कार्यस्थल पर परिस्थितियों में सुधार होगा और आपके काम को पहचान मिलेगी। महिला पक्ष से सहयोग मिलेगा। अपने बेहतर काम से लाभ मिलेगा और आय में वृद्धि होगी लेकिन खर्च भी बढ़ेंगे। आप स्वयं पर अधिक खर्च करेंगे। इस सप्ताह सेहत पर ध्यान देने की ज़रुरत है। विवेकपूर्ण निर्णयों से आपको लाभ की प्राप्ति होगी। छात्रों को अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे। इस सप्ताह बच्चे भी खुश रहेंगे।

प्रेमफल: प्रेमी युगल के लिए यह सप्ताह अच्छा रहने वाला है। आप एक-दूसरे की भावनाओं को समझेंगे और आपका प्यार परवान चढ़ेगा। सप्ताह की शुरुआत अच्छी रहेगी, मध्य भाग भी बेहतर होगा और सप्ताहांत में अच्छे परिणाम मिलेंगे। इस हफ्ते आप एक-दूसरे से मिलेंगे, मूवी देखेंगे और होटल में डिनर या लंच करेंगे।

भाग्य स्टार: 3/5 

उपाय: श्वेतार्क के पौधे पर पानी चढ़ाएं और सूर्यदेव की आराधना करें।


कन्या: सप्ताह की शुरुआत में कन्या राशि के जातकों पर मानसिक दबाव हावी रहेगा। सप्ताह का मध्य भाग आपके पक्ष में रहेगा और आपको शक्ति प्रदान करेगा। वहीं सप्ताहांत अच्छा रहेगा। पारिवारिक जीवन में सद्भाव बना रहेगा। छात्रों का पढ़ाई में मन कम लगेगा। वहीं बच्चे भी छोटी-मोटी बीमारी से पीड़ित रह सकते हैं। इस दौरान आय भी होगी लेकिन खर्च भी होगा। हालांकि आप अपने खर्चों की भरपाई कर लेंगे। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी और वैवाहिक जीवन भी अच्छा रहेगा।

प्रेमफल: प्रेम-प्रसंग के मामलों में यह सप्ताह चुनौतीपूर्ण रहने वाला है। इस दौरान विवाद से बचने की कोशिश करें। इस सप्ताह कोई नया रिश्ता बन सकता है लेकिन थोड़ा समय लगेगा। वे लोग जो लव मैरिज का मन बना रहे हैं उन्हें थोड़ा इंतज़ार करना होगा। सप्ताह की शुरुआत धीमी होगी लेकिन मध्य भाग अच्छा रहेगा। जबकि सप्ताहांत आपके पक्ष में रहेगा। 

भाग्य स्टार: 2/5

उपाय: श्री विष्णु सहस्त्रनाम स्त्रोत का पाठ करें।


तुला: इस सप्ताह तुला राशि के जातकों को मौद्रिक लाभ होने की संभावना है। कार्यस्थल पर आपकी प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी हालांकि इस दौरान आप किसी षड़यंत्र के शिकार हो सकते हैं इसलिए थोड़ा संभलकर रहें। इस सप्ताह कोई अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। पिता की सेहत में गिरावट देखने को मिल सकती है इसलिए उनका ख्याल रखें। पारिवारिक जीवन में उथल-पुथल रह सकती है। इसके अलावा खर्चों में भी बढ़ोत्तरी की संभावना है।

प्रेमफल: यह सप्ताह बेहद प्यार भरा रहेगा। प्रियतम से खूब सारी बातें होंगी लेकिन ज्यादा बात होने से भ्रम की स्थिति भी पैदा हो सकती है। इस सप्ताह कहीं सैर-सपाटे का प्लान बन सकता है। हफ्ते की शुरुआत सामान्य रहेगी, मध्य भाग थोड़ा परेशान कर सकता है लेकिन सप्ताहांत बेहद अच्छा रहेगा। 

भाग्य स्टार: 3/5 

उपाय: गले में स्फटिक की माला पहनें।


वृश्चिक: सप्ताह की शुरुआत में संघर्ष करना पड़ सकता है लेकिन मध्य आते-आते परिस्थितियों में सुधार होगा। पारिवारिक और व्यक्तिगत जीवन में उथल-पुथल रह सकती है, हालांकि बुद्धिमानी से फैसले लेने पर आप चुनौतियों से लड़ने में कामयाब रहेंगे। इस सप्ताह छात्र बहुत परिश्रम करेंगे और बच्चे भी खुश रहेंगे। इस दौरान पिता जी की सेहत का खास ख्याल रखें। आपकी माता की रुचि धार्मिक कार्यों की ओर अधिक रहेगी। 

प्रेमफल: प्रेमी युगल के लिए यह सप्ताह बेहद शानदार रहने वाला है। वे जातक जो अपने प्रियतम से शादी करना चाहते हैं उनके लिए यह समय विशेष रूप से अच्छा है। इस दौरान वे अपने पार्टनर को शादी के लिए प्रपोज़ कर सकते हैं। हफ्ते की शुरुआत थोड़ी धीमी रहेगी लेकिन मध्य भाग और सप्ताहांत बेहद अच्छा गुजरेगा। इस दौरान आप अपने पार्टनर के साथ खूब मस्ती करेंगे लेकिन मर्यादित आचरण बनाये रखें।

भाग्य स्टार: 2.5/5

उपाय: छोटी उंगली में मोती धारण करें।


ऑनलाइन सॉफ्टवेयर से प्राप्त करें नि:शुल्क जन्म कुंडली

धनु: यह सप्ताह धनु राशि के जातकों के लिए प्रगतिशील रहेगा। पारिवारिक जीवन में सद्भाव बना रहेगा और आप घर पर सुख-शांति का अनुभव करेंगे। आपकी माता की सेहत भी अच्छी रहेगी और वे जीवन का आनंद लेंगी। हालांकि पिता के स्वभाव में थोड़ी बेचैनी रहेगी और उनकी सेहत भी खराब रह सकती है। इस सप्ताह आपका स्वास्थ्य भी कमजोर रहने के संकेत दे रहा है। इस हफ्ते अत्यधिक खर्च और बेवजह की यात्राएं करनी पड़ सकती हैं। विभिन्न माध्यमों से लाभ मिलने की संभावना बन रही है। 

प्रेमफल: प्रेम-प्रसंगों के मामलों के लिए यह सप्ताह मिला-जुला रहेगा। इस दौरान लव लाइफ में उतार-चढ़ाव देखने को मिलेंगे। सप्ताह की शुरुआत में सावधान रहने की ज़रुरत है। इस दौरान मर्यादा में रहने की कोशिश करें और अपने विचार बेवजह प्रियतम पर थोपने की कोशिश नहीं करें। 

भाग्य स्टार: 3/5 

उपाय: सूर्य देव की आराधना करें।


मकर: इस सप्ताह मौद्रिक लाभ की संभावना बन रही है लेकिन क्रोध की वजह से कुछ मतभेद भी उभर सकते हैं। इस दौरान सांसारिक जीवन से मोह थोड़ा कम हो जाएगा। बिज़नेस पार्टनर और जीवनसाथी के साथ वैचारिक टकराव बढ़ सकता है इसलिए ऐसी स्थिति से बचने की कोशिश करें। जीवनसाथी की सेहत भी खराब रह सकती है। पारिवारिक जीवन में भी कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है इसलिए शांति बनाये रखने के लिए विवादों से बचने की कोशिश करें। कार्य स्थल पर कड़ा परिश्रम करने से ही सफलता प्राप्त होगी। 

प्रेमफल: प्रेम-प्रसंग के मामलों के लिए यह सप्ताह बेहद अच्छा है। वे जातक जो विवाहित हैं उन्हें अपने वैवाहिक जीवन में संतुलन बनाये रखने की कोशिश करनी होगी। प्रेमी युगल के लिए सप्ताह की शुरुआत अच्छी रहेगी और मध्य भाग सामान्य होगा। जबकि सप्ताहांत में बहुत अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे और आप अपने पार्टनर के साथ अच्छा समय व्यतीत करेंगे। 

भाग्य स्टार: 3/5 

उपाय: गाय को गेहूं और गुड़ खिलाएं।


कुंभ: इस सप्ताह कुंभ राशि के जातक अपने विरोधियों पर हावी रहेंगे। अदालती मामलों में भी सफलता मिलने के योग हैं। हालांकि इस दौरान किसी अन्य मामले में नहीं पड़ें। स्वास्थ्य संंबंधी परेशानी भी हो सकती हैं। इस हफ्ते आप परिवार के लोगों को ज्यादा समय नहीं दे पाएंगे, साथ ही जीवन में संतोष की कमी रहेगी। जीवनसाथी के साथ गलतफहमी या कहासुनी हो सकती है। इस दौरान जीवनसाथी की सेहत में भी गिरावट देखने को मिल सकती है। इस सप्ताह आपके भाई-बहन खुश रहेंगे। इस हफ्ते अचानक कोई हानि हो सकती है इसलिए थोड़ा सावधान रहें। आध्यात्मिकता की ओर रुझान बढ़ेगा।

प्रेमफल: प्रेमी जोड़ों के लिए यह सप्ताह अच्छा रहेगा। हालांकि जो जातक विवाहित हैं उनके रिश्तों में कुछ मतभेद हो सकते हैं लेकिन सप्ताहांत तक परिस्थितियों में सुधार हो जाएगा। प्रेमी युगल एक-दूसरे के साथ अच्छा समय गुजारेंगे। इस दौरान वे डिनर या लंच साथ करेंगे। प्रेमी जोड़ों का पूरा ध्यान केवल प्यार पर रहेगा। इस सप्ताह कुंभ राशि के कुछ लोग लव मैरिज भी कर सकते हैं।

भाग्य स्टार: 2.5/5

उपाय: कुत्तों को रोटी खिलाएं।


मीन: यह सप्ताह मीन राशि के जातकों के लिए बेहद अच्छा रहने वाला है। घर-परिवार में खुशियां और सुख मिलेगा। नए वाहन या मकान की प्राप्ति भी हो सकती है। हालांकि वैवाहिक जीवन में कुछ मतभेद भी हो सकते हैं लेकिन आपके जीवनसाथी के अच्छे व्यवहार से सप्ताह के मध्य में हालात बेहतर हो जाएंगे। कार्यस्थल पर सफलता मिलेगी और मान प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। मौद्रिक लाभ होने की भी संभावना है। इस सप्ताह कुछ यात्राओं के भी योग बन रहे हैं। नेत्र और अनिद्रा संबंधी पीड़ा से परेशानी हो सकती है।

प्रेमफल: प्रेम-प्रसंग के मामलों के लिए यह सप्ताह चुनौतीपूर्ण हो सकता है। इस दौरान वैचारिक टकराव और विवाद की संभावना बन रही है, इसलिए सभी मुद्दों को बातचीत के जरिये सुलझाने की कोशिश करें। सप्ताह की शुरुआत सामान्य रहेगी, मध्य भाग अच्छा होगा और सप्ताहांत में कुछ अच्छे परिणाम मिलेंगे।

भाग्य स्टार: 3.5/5

उपाय: चांदी के बर्तनों का उपयोग करें।

Read More »

कजरी तीज आज, जानें पूजा विधि

कजरी तीज पर करें ये काम, मिलेगा वरदान!आज देशभर में कजरी तीज का पर्व बड़ी धूम के साथ मनाया जा रहा है। आइए इस ब्लॉग के माध्यम से जानते हैं कजरी तीज का महत्व।



कजरी तीज मुख्य रूप से महिलाओं का पर्व है। यह त्यौहार आज देशभर में बड़ी धूम-धाम के साथ मनाया जा रहा है। हिन्दू पंचांग के अनुसार कजरी तीज भाद्रपद मास में कृष्ण पक्ष की तृतीया तिथि को बड़ी धूमधाम से मनाई जाती है। कजरी तीज को कजली तीज के भी नाम से जाना जाता है। इस दिन कजरी गीत गाने की विशेष परंपरा है। महिलाएँ ढोलक की ताल पर सामूहिक लोकगीत गाती हैं। भारत के विभिन्न भागों में कजरी तीज को बूढ़ी तीज के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन महिलाएं व्रत रखती हैं। यह व्रत रखने से वैवाहिक जीवन में सुख-समृद्धि आती है। इस दिन महिलाएँ गौरी शंकर रुद्राक्ष ख़रीदकर उसे धारण करती हैं और पारद शिवलिंग की आराधना करती हैं।

तृतीया तिथि की समयावधि -


प्रारंभ
समापन
अगस्त 10, 2017 को 00:45:03 बजे से
अगस्त 11, 2017 को 00:35:34 बजे तक

नोटः ऊपर दिया गया समय नई दिल्ली भारत के लिए है। जानें अपने शहर में कजरी तीज की पूजा विधि व व्रत के नियम: कजरी तीज की पूजा विधि

कजरी तीज पर होने वाली सांस्कृतिक परंपराएँ

  • महिलाएं इस दिन बागों में झूले झूलती हैं। 
  • सुहागन महिलाएँ अपने पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखती हैं जबकि कुंवारी कन्याएँ अच्छा वर पाने के लिए यह व्रत करती हैं।
  • महिलाएँ लोक गीत का गायन और नृत्य करती हैं।
  • इस दिन कई प्रकार के व्यंजन पकाए जाते हैं। इसके अलावा मिठाइयों में घेवर, गुजिया, बेसन और नारियल के लड्डू बनाये जाते हैं।

कजरी तीज का महत्व


कजरी तीज का महत्व इस बात से लगाया जा सकता है कि इस दिन महिलाएँ अपने पति के प्रति पूर्ण समर्पित रहती हैं, ताकि उनके वैवाहिक जीवन की डोर कभी कमज़ोर न पड़े। कहा जाता है कि कजरी तीज का महत्व भगवान शिव एवं माँ पार्वती से जुड़ा हुआ है। पौराणिक कथा के अनुसार माँ पार्वती भगवान शिव से शादी करना चाहती थीं, लेकिन इसके लिए शिवजी माँ की कठिन परीक्षा लेना चाहते थे। इसके लिए माँ पार्वती जी ने 108 वर्षो तक कठिन तप किया। इस तपस्या से भगवान शिव प्रसन्न हुए और फिर भाद्रपद मास में कृष्ण पक्ष में दोनों का विवाह संपन्न हुआ। तभी से इस दिन को कजरी तीज के रूप में मनाया जाने लगा।

एस्ट्रोसेज की ओर से सभी पाठकों को कजरी तीज की हार्दिक शुभकामनाएँ !
Read More »

रक्षाबंधन-चंद्रग्रहण आज, करें ये काम!

रक्षाबंधन पर चंद्रग्रहण, जानें राखी बांधने का मुहूर्त! जानें रक्षाबंधन के त्यौहार का महत्व, साथ ही पढ़ें चंद्रग्रहण का विभिन्न राशियों पर होने वाला प्रभाव।


Click here to read in English

रक्षा बंधन भाई और बहन के पवित्र रिश्ते से जुड़ा पर्व है। हर बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधने के लिए रक्षा बंधन के त्यौहार का इंतज़ार करती है। रक्षा बंधन का त्यौहार हर वर्ष श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह पर्व जुलाई या अगस्त के महीने में आता है। इस वर्ष रक्षाबंधन का त्यौहार 7 अगस्त, सोमवार को मनाया जा रहा है। रक्षाबंधन हिन्दू धर्म के बड़े पर्वों में से एक है। इस दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र यानि राखी बांधती हैं। वहीं भाई अपनी बहन को उपहार और हमेशा उनकी रक्षा करने का वचन देता है। रक्षाबंधन का त्यौहार धर्म और जाति से परे है। इतिहास में कई ऐसे उदाहरण मिलते हैं जिनमें अलग-अलग धर्म के लोगों ने भाई-बहन के रिश्तों को एक नई पहचान दी।

रक्षाबंधन मुहूर्त
राखी बांधने का मुहूर्त
11:10:05 से 21:15:35 तक
अवधि
10 घंटे 5 मिनट
रक्षा बंधन अपराह्न मुहूर्त
13:46:59 से 16:27:29 तक
रक्षा बंधन प्रदोष मुहूर्त
19:07:59 से 21:15:36 तक

(नोट- यह मुहूर्त नई दिल्ली के लिए है। जानें अपने शहर में रक्षा बंधन का मुहूर्त: रक्षा बंधन मुहूर्त)

इस वर्ष रक्षा बंधन के दिन रात्रि में चंद्र ग्रहण भी है। ग्रहण के सूतक की वजह से रक्षा बंधन के मुहूर्त को लेकर असमंजस की स्थिति बन रही है लेकिन धर्म सिन्धु और निर्णय सिन्धु के अनुसार, रक्षाबंधन मनाने में ग्रहण काल और संक्रांति का विचार नहीं किया जाता है।

"निर्णय सिंधु" के परिच्छेद 2 के अनुसार,

"इदं रक्षाबंधनं नियतकालत्वात् भद्रावर्ज्य ग्रहणदिनेपि कार्यं

होलिकावत्। ग्रहणसंक्रांत्यादौ रक्षानिषेधाभावात् ।"

यानि रक्षाबंधन नियत काल में होने से भद्रा को छोड़ कर ग्रहण के दिन भी होली के समान ही करना चाहिए। ग्रहण का सूतक अनियतकाल के कर्मों में लगता है जबकि राखी श्रावण सुदी पूर्णिमा को ही मनाई जाती है। रक्षा बंधन नियत कर्म होने के कारण इसको ग्रहण का सूतक दोष नहीं लगता है, इसलिए रक्षा बंधन 7 अगस्त को 11:08 के बाद पूरे दिन कर सकते हैं।

वे लोग जो कुल परंपरा के अनुसार ग्रहण के सूतक में किसी भी शुभ कार्य को करना वर्जित मानते हैं। वे सभी ग्रहण सूतक प्रारंभ होने से पहले राखी बांध सकते हैं। यदि आप इस मत से सहमत हैं तो 7 अगस्त को सुबह 11:05 से 1:25 के बीच रक्षाबंधन मना सकते हैं।


रक्षाबंधन का महत्व


रक्षा बंधन महज राखी बांधने का दिन नहीं है बल्कि यह भावना और संवेदनाओं का पर्व है। राखी एक रेशम का धागा न होकर भाई-बहनों के बीच आपसी स्नेह और लगाव का प्रतीक है। 

रक्षाबंधन पर हर बहन अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधने का बेसब्री से इंतज़ार करती है। वहीं घर से दूर रहने वाले भाइयों को अपनी बहन की राखी का इंतज़ार रहता है। रक्षाबंधन का पर्व केवल सगे भाई-बहनों तक ही सीमित नहीं है, बल्कि मुंह बोले भाई-बहनों के रिश्तों से भी जुड़ा हुआ है। भारत के इतिहास में ऐसी कई कहानियां दर्ज हैं, जहां अलग-अलग धर्म होने के बावजूद भाई-बहनों के बीच प्यार और लगाव की अनोखी मिसाल देखने को मिली हैं। इनमें सबसे चर्चित किस्से मुगल सम्राट हुमायूं और रानी कर्णावती एवं महान योद्धा अलेक्जेंडर की पत्नी व राजा पुरु के बीच रक्षाबंधन के अनुपम रिश्ते को लेकर हैं।

एस्ट्रोसेज की अपील: इस रक्षाबंधन पर लें पर्यावरण बचाने का संकल्प

विज्ञान और आधुनिकता के इस दौर में जलवायु परिवर्तन बेहद चिंता का विषय है। वृक्षों की कटाई और बढ़ते प्रदूषण की वजह से पर्यावरण लगातार दूषित हो रहा है। ऐसे में अब जरुरत है प्रकृति को बचाने की। हिंदू धर्म में वृक्षों का बड़ा महत्व है और इन्हें देवताओं का दर्जा दिया गया है। रक्षाबंधन पर हम ईश्वर को भी राखी बांधते हैं, इसलिए आइये हम संकल्प लेते हैं कि रक्षाबंधन के दिन स्नेह की एक डोर एक वृक्ष को भी बांधे और उसकी रक्षा की जिम्मेदारी लें। हिन्दू धर्म शास्त्रों में लिखा है कि: 

‘’जो मनुष्य वृक्षों को बचाता है, वृक्ष लगाता है, उसके वंश का नाश नहीं होता है।

वह दीर्घकाल तक स्वर्ग लोक में निवास पाकर सुख भोगता है।’’ 

प्रकृति में पेड़-पौधे बिना किसी भेदभाव के मानव समुदाय को जीवन देते हैं, इसलिए हमें राखी का एक धागा बांधकर वृक्षों की रक्षा का संकल्प अवश्य लेना चाहिए।

अब पढ़ें रक्षाबंधन पर होने वाले चंद्र ग्रहण के बारे में 

चंद्र ग्रहण 2017


रक्षा बंधन के दिन 7 अगस्त 2017 सोमवार को आंशिक चंद्र ग्रहण घटित होगा। यह चंद्र ग्रहण मकर राशि और श्रवण नक्षत्र में लगेगा। श्रवण नक्षत्र का स्वामी चंद्रमा है इसलिए वे लोग जिनकी कुंडली में चंद्रमा कमजोर है उनके लिए यह ग्रहण कष्टकारी रह सकता है। सोमवार को होने वाले चंद्र ग्रहण को चूड़ामणि संज्ञक कहा गया है। चूड़ामणि ग्रहण में होने वाला पूजा-पाठ, यज्ञ दान पुण्य अति फलदायी माना जाता है।

चंद्रग्रहण का समय और दृश्यता: यह चंद्रग्रहण भारत समेत यूरोप, एशिया, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, पूर्वी दक्षिण अमेरिका आदि क्षेत्रों में दिखाई देगा। चूंकि यह ग्रहण भारत में दृश्य है इसलिए इसका सूतक मान्य होगा। चंद्र ग्रहण का समय और समाप्तिकाल इस प्रकार है: 


चंद्र ग्रहण (7 अगस्त 2017)
ग्रहण आरंभ
मध्य अवधि
ग्रहण समाप्ति
कुल समय
भारत में दृश्यता
22:52
23:50
24:48:00
1 घंटा 56 मिनट
दृश्य है

जानें विभिन्न राशियों पर क्या होगा चंद्र ग्रहण का प्रभाव: चंद्र ग्रहण 2017 

ग्रहण का सूतक


चंद्रग्रहण का सूतक 7 अगस्त सोमवार को दोपहर 1 बजकर 52 मिनट पर शुरू हो जाएगा और रात्रि 12:48 पर ग्रहण की समाप्ति पर स्नान के बाद सूतक काल समाप्त हो जाएगा। ग्रहण शुरू होने से पहले स्नान, मध्य में हवन,पूजा-पाठ और समाप्ति के बाद दान पुण्य और स्नान करना चाहिए।

जानें वर्ष 2017 में घटित होने वाले ग्रहण और पढ़ें ग्रहण में क्या करें, क्या नहीं करें?: सूर्य-चंद्र ग्रहण की तिथि व सावधानियां

हम आशा करते हैं कि रक्षाबंधन और चंद्रग्रहण पर आधारित यह लेख आपको जरूर पसंद आया होगा। एस्ट्रोसेज की ओर से सभी पाठकों को सुखद भविष्य की शुभकामनाएं।
Read More »