एस्ट्रोसेज कुण्डली 6.0 - नया और बेहतर

नयी विशेषताएँ– योगिनी दशा, चर दशा, मैत्री, स्वतः डीएसटी सुधार, नामकरण सुझाव, शाड्बल, कारकांश, पश्चिमी ज्योतिष की दृष्टियाँ इत्यादि।

एस्ट्रोसेज कुण्डली कई अद्भुत फ़ीचर्स के साथ एक बार फिर हाज़िर है। इसके नए संस्करण 6.0 में कई ऐसी ख़ास सुविधाएँ जोड़ी गयी हैं, जो आपको ज्योतिष की उपयोगिता से बेहतर तौर पर परिचित कराएंगी।

आइए, एक नज़र डालते हैं एस्ट्रोसेज कुंडली 6.0 की विशेषताओं पर – 

  • नई दशाएँ – योगिनी दशा और चर दशा
  • कई नई गणनाएँ – षड्बल, भावबल, कारकांश, स्वांश, प्रस्तर-अष्टकवर्ग, पश्चिमी ज्योतिष की दृष्टियाँ, केपी संधि पर दृष्टि
  • डीएसटी में स्वतः सुधार
  • फलादेश – नक्षत्र रिपोर्ट, चन्द्र राशि (वैदिक व पाश्चात्य) आदि
  • मैत्री – नैसर्गिक, तात्कालिक व पंचधा मैत्री
  • एस्ट्रोसेज क्लाउड सशुल्क प्लान में विज्ञापन हटाने की सुविधा
  • नामकरण रिपोर्ट
  • अन्य बहुत कुछ

यह तो केवल एक झलक है। सारी नई सुविधाओं को देखने के लिए एस्ट्रोसेज कुण्डली के नए संस्करण को अभी देखें।

षड्बल
प्रस्तर-अष्टकवर्ग
भाव मध्य
मैत्री तालिका
चर दशा
योगिनी दशा
नामकरण के लिए सुझाव

इस नए संस्करण में मुख्यतः जैमिनी ज्योतिष से जुड़ी चीज़ों को डाला गया है। साथ ही कृष्णमूर्ति पद्धति और पाश्चात्य ज्योतिष से जुड़ी कुछ फ़ीचर भी इसमें जोड़ी गयी हैं।

जो लोग फलादेश पढ़ना चाहते हैं, उनके लिए भी बहुत कुछ है इस नए संस्करण में। अभी देखें एस्ट्रोसेज कुण्डली 6.0 और लें ज्योतिष की शक्ति का लाभ।

Related Articles:

No comments:

Post a Comment